Website Estd 1999

Sayings of Sri Sri Thakur

                                                                                        

  
 

पुरुषोत्तम ही इष्ट, पुरुषोत्तम ही ध्येय हैं उनके अन्तर धान के बाद भी वे ही मनुष्य के

इष्ट एवं ध्येय होकर रह्ते हैं,जब तक उनका पुनराविर्भाव नहीं होता हैं। उनके अनुगामियों

का काम है उन्हें ही लोगों के समक्ष उपस्थित कर रखना । मनुष्य के प्राप्तव्य हैं

ईश्वर एवं पुरुषोत्तम ही हैं रक्तमासं संकुल स्वयं ईश्वर ।

                        आः प्रः ११/६६ August 3rd, 2014

August 3rd, 2014

 

 

 

 

 

 

 

 

 

THE SOLACE OF HEART

Positive, active love for the Lord

with pious cordial behaviour

and service

is the solace of every heart.